अन्य
    Sunday, April 21, 2024
    अन्य

      सरकारी खजाना पर बालू माफियाओं का बेखौफ डाका, यूं रोज लगा रहे हैं राजस्व का चूना

      “बालू माफियाओं की सांठगांठ करायपरसुराय पुलिस से है। पुलिस को जैसे ही ग्रामीण सूचना देती है। वैसे ही बालू माफिया नदी से निकलकर भाग खड़े हो जाते हैं। बालू के अवैध खनन से नदीयों में गढ्ढे हो जाते हैं। इससे आए दिन नदी में डूबकर मौत की घटना बढ़ रही है..

      करायपरसुराय (पवन कुमार)। जहाँ एक ओर जिला प्रशासन अवैध खनन के प्रति सख्त है, वहीं दूसरी ओर करायपरशुराय थाना क्षेत्र अंतर्गत कद्दूआ नदी में धड़ल्ले से दिन के उजाले में बालू का अवैध खनन जोरों पर है। खनन माफियाओं के नेटवर्क के आगे प्रशासन नाकाम साबित हो रहा है।

      करायपरशुराय थाना क्षेत्र में कद्दुआ नदी से बालू के खनन पर रोक लगे रहने के बावजूद बालू माफियाओं सरकार की खजाना में डाका डाल रहा है। अवैध खनन का कारोबार करने वाले लोग करायपरशुराय थाना क्षेत्र के विनसा गांव से दक्षिणी और अब्बुपुर गांव से उत्तर कद्दुआ नदी के बालू को बेच कर मालामाल हो रहे हैं।

      बालू माफिया दिन मे घूमकर जरुरतमंदों से भाव तय कर एक हजार से 12 सौ रुपए प्रति ट्रॉली बालू और मिट्टी बेच रहे हैं। प्रतिदिन अहले सुबह से ही अवैध खनन का खेल चलता रहता है। खनन करने वाले माफियाओं के पास खुद की ट्रैक्टर-ट्राली है। खनन करने वाले कुछ इसी इलाके का बताया जा रहा है।

      नदी से अवैध खनन से नदी का रुख लगातार बदलते जा रही है। वहीं नदीयों से सटे हुए ग्रामीणों के सिर पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है। उसके बावजूद कराय परशुराय थाना क्षेत्र के मखदुमपुर पंचायत के विनसा गंब के दक्षिण कररुआ नदी लाखों रुपए की अवैध बालू व मिट्टी का खनन रोजाना किया जाता है।

      नदी के नालन्दा के सीमावर्ती क्षेत्रों हो जाने के कारण अवैध बालू खनन करने वालों की बालू के रूप में चांदी कटाई हो रही है। बिना लागत के अवैध बालू खनन से अवैध कारोबारी मालामाल हो रहे हैं।

      ग्रामीणों में दबंग बालू माफियाओं का इतना भय है कि अवैध बालू उठाने वालों के खिलाफ कोई आवाज तक नहीं उठा पाते है। जिससे अब तो वे खुलेआम दिन के उजाले में बालू का अवैध खनन करते हैं।

      ग्रामीणों के नाम नही छापने के शर्त पर बताया कि बालू माफियाओं की सांठगांठ करायपरसुराय पुलिस से है। पुलिस को जैसे ही ग्रामीण सूचना देती है। वैसे ही बालू माफिया नदी से निकलकर भाग खड़े हो जाते हैं। बालू के अवैध खनन से नदीयों में गढ्ढे हो जाते हैं। इससे आए दिन नदी में डूबकर मौत की घटना बढ़ रही है।

      युवक की संदिग्ध मौत, भाई ने लगाया फुआ पर हत्या का आरोप, 6 साल से रहता था साथ

      युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, पड़ोस की लड़की से था अफेयर, पकड़े जाने पर उठाया कदम

      मंत्री ने पांच पीड़ित परिवारों को आपदा राहत कोष से 20 लाख रुपये का चेक सौंपा

      बिहारशरीफ सदर अस्पताल में 22 लाख रुपए की लिफ्ट सेवा उद्घाटन के 3 माह बाद ही फेल

      24-25 अगस्त को 32 केंद्रों पर 42479 अभ्यर्थी परीक्षा में होंगे शामिल, जानें प्रशासन की तैयारी

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!