अन्य
    Sunday, July 21, 2024
    अन्य

      राजकीय दंत चिकित्सा महाविद्यालय का उद्घाटन, बोले सीएम- आगे तेजस्वी देखेंगे बिहार

      "आने वाले समय में बिहार का काम तेजस्वी यादव देखेंगे। सीएम नीतीश कुमार के इस बयान से कयास लगने भी शुरू हो गया है कि जल्द ही नीतीश कुमार तेजस्वी को बिहार की बागडोर देने वाले हैं...

      नालंदा दर्पण डेस्क। बिहार के दूसरे अत्याधुनिक राजकीय दंत चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व उपमुख्यमंत्री सह स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव द्वारा विधिवत रूप से उद्घाटन किया गया। 19 एकड़ में 410 करोड़ की लागत से इस महाविद्यालय का निर्माण कराया गया है। इस परिसर में 24 खंडों में पांच तरह के भवन बनाये गए हैं।

      Inauguration of Government Dental College Bihar will now see Tejashwi 3साल 2019 में इस कॉलेज की नींव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा आधारशिला रखी गयी थी। शुरुआती में कॉलेज निर्माण का बजट 383 करोड़ था। कार्य मे हुए देरी के कारण बढ़कर 410 करोड़ हो गया। इसे पूरा करने में साढ़े तीन साल लग गए। हालांकि, अब भी मुख्य भवन को छोड़कर काफी काम बाकी हैं।

      मार्च 2022 में भवन निर्माण पूरा होना था। लेकिन, कोरोना काल के चलते धीमी निर्माण गति के कारण छह माह का समय बढ़ाकर इसे अक्टूबर किया गया। साढ़े तीन साल में सभी ब्लॉक का निर्माण हो चुका है। मुख्य भवन को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

      इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि मेरा सपना था कि नालंदा में एक ऐसा दंत महाविद्यालय का निर्माण हो सके जहां दाँत से संबंधित सभी प्रकार का इलाज हो सकें। साथ ही बिहार के युवा यहीं रहकर अध्ययन भी कर सकेगें।

      उन्होंने बताया कि यह अस्पताल राज्य ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर का अस्पताल और कॉलेज है। यहां जितने भी मशीन लगाए गए है वे सभी अत्याधुनिक हैं। डेंटल के अलावा 100 बेड का जेनरल वार्ड होगा। इसमें 10 बेड का आधुनिक इमरजेंसी वार्ड भी होगा। सोनोग्राफी, सीटी स्कैन, पैथॉलोजी एवं ब्लड बैंक के साथ अन्य सुविधाएं मिलेंगी। 250 डेंटल चेयर लगाए जाने हैं। इनमें से 26 डेंटल चेयर लग चुके हैं। खास यह कि मरीजों के साथ आने वाले परिजनों के ठहरने के लिए धर्मशाला बनाया गया है।Inauguration of Government Dental College Bihar will now see Tejashwi 2

      उन्होंने कहा कि हम पहले अपने दांतों का इलाज कराने के लिए एम्स दिल्ली जाया करते थे। लेकिन अब इसके बन जाने से हम अपना भी दांत का इलाज यहीं कराएंगे। यहां पर हमने नालंदा यूनिवर्सिटी ,पावापुरी मेडिकल कॉलेज, दंत चिकित्सा महाविद्यालय समेत कई चीजें बनवाए हैं।

      उन्होंने कहा कि केंद्र से जितना सहयोग मिलना चाहिए वह सहयोग नहीं मिल रहा है। फिर भी हम बिहार के विकास में पीछे नहीं हैं। हर जगह सड़क मार्ग बिछा दिया गया है। शिक्षा , स्वास्थ्य सभी चीजों में व्यापक सुधार किया जा रहा है।

      नीतीश कुमार ने इशारों में कहा कि आने वाले समय में बिहार का काम तेजस्वी यादव देखेंगे। उनके इस बयान से कयास लगने भी शुरू हो गया है कि जल्द ही नीतीश कुमार तेजस्वी को बिहार की बागडोर देने वाले हैं।

      Inauguration of Government Dental College Bihar will now see Tejashwiस्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि यह नालंदा के लिए ही नहीं बल्कि बिहार और देश के लिए इस अस्पताल का बहुत बड़ा तोहफा मिला है और आप जानते होगें मिशन 60 के तहत सूबे के अस्पतालों का कायाकल्प किया जा रहा है। आने वाले दिनों में लोगों को जिले के अस्पतालों में ही सारी सुविधाएं मिले इस पर प्रयास किया जा रहा है। जल्दी सभी रिक्त पदों को भरा जाएगा । महाविद्यालय अस्पताल के कारण एक बार फिर नालंदा का नाम राष्ट्रीय स्तर पर आएगा ।

      इस मौके पर वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी, ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार , सांसद कोशैलेंद्र कुमार, विधायक हरिनारायण सिंह, कौशल किशोर ,कृष्ण मुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया ,डॉ जितेंद्र कुमार, रौशन कुमार , जदयू के राष्ट्रीय महासचिव इंजीनियर सुनील कुमार, गृह सचिव आमिर सुबहानी ,मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत, बिहार मेडिकल सर्विसेज एंड इंफ्रास्ट्रक्चर कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीएमएसआईसीएल) के जीएम रवीन्द्र कुमार, महाप्रबंधक दिनेश कुमार, चीफ जनरल मैनेजर सुधीर कुमार सिंह, डीएम शशांक शुभंकर, एसपी अशोक कुमार मिश्रा , दंत कॉलेज के प्राचार्य डॉ. रंधीर कुमार, एसडीओ अभिषेक पलासिया केला के कई लोग मौजूद थे।

      किस भवन में कौन रहेंगे: सहायक प्रोजेक्ट मैनेजर नीरज कुमार ने बताया कि हॉस्पीटल, कॉलेज व ऑडिटोरिएम में एसी लग चुका है। इन सभी भवनों में लगे सेंट्रलाइज एसी को ब्लीडिंग मैंनेजमेंट सिस्टम से जोडा है। यह एसी मशीन ऑटोमेटिक काम करेगी। टाईप एक में कॉलेज के चर्तुथवर्गीय कर्मचारी, टाईप दो में तृतीय वर्गीय कर्मचारी, टाईप तीन में तकनीकी कर्मी व टाईप पांच में प्रोफेसर तो टाईप चार को रिजर्व रखा गया है।

      24 घंटे बिजली होगी बहाल, शाम होते ही खुद से जलेंगी लाइटें: इस कॉलेज में छोटे-बड़े 17 हजार लाईट लगे हैं। सेंसर व डे नाइट लाइटिंग सिस्टम से सभी लाइट जलेगा। रात दिन बिजली उपलब्ध रहेगा। इसके लिए 50 किलो वाट का सोलर प्लांट,पावर बैकअप के लिए 2800 केवीए का चार जेनरेटर लगे हैं। इस अस्पताल में 4600 केवीए का संभावित लोड होगा। इसके लिए 1600 केवीए के तीन ट्रांसफॉर्मर लगाए गए हैं। खास यह कि दिन ढलने के साथ ही अंधेरा होते ही लाईट स्वत: जलने लगेगा।

      फरवरी माह से अन्य रोगों का शुरू होगा इलाज: दांतों का इलाज शुरू हो जाएगा। इसके बाद फरवरी से 100 बेड का अस्पताल भी काम करने लगेगा। जहां अन्य रोगों का इलाज किया जाएगा। इससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

      संबंधित खबर

      error: Content is protected !!