अन्य
    Friday, April 12, 2024
    अन्य

      व्यवसायी दंपती को बंधक बनाकर 32 लाख की डकैती, नकारा बनी नालंदा पुलिस

      नालंदा दर्पण डेस्क। रहुई थाना क्षेत्र अंतर्गत मोहद्दीनपुर स्थित कमरपुर मोड़ के समीप नकाबपोश बदमाशों ने बीती आधी रात को एक किराना व्यवसाय के घर में हथियार से लैस करीब 7-8 की संख्या में घर में घुसे बदमाशों ने डकैती की घटना को अंजाम दिया है। यह वारदात कमलेश कुमार के घर स्थित दुकान में हुई है।

      पीड़ित परिजनों के अनुसार रविवार की रात 12:15 बजे नकाबपोश डकैत घर के मुख्य दरवाजे का ताला काट घुस आए और गाली-गलौज करते हुए बंदूक की नोक पर मारपीट करते हुए दंपति को बंधक बना लिया। मारपीट के डर से घर के स्टोरबेल और पेटी बक्शे की चाभी डकैतों को दे दिया। घर में सवा घंटे तक रुक कर नकाबपोश बदमाशों ने करीब 30 लाख के जेवरात और तीन लाख पचास हजार नगद लूट लिए।

      7 से 8 की संख्या में घर में घुसे नकाबपोश डकैतो ने पत्नी को बंधक बना लिया। साथ ही बच्चों को भी अपने कब्जे में ले लिया। सभी को घर के एक कमरे में बंद कर दिया और पेटी-बक्से एवं स्टोरवेल का ताला तोड़कर गहने- जेवरात एवं नगदी की डकैती कर ली।

      डकैतों के जाने के बाद किसी तरह से दंपति बंधन मुक्त हुए और कमरे का दरवाजा तोड़ कर घर के बाहर आए और इसकी सूचना आस पड़ोस और स्थानीय पुलिस को दी गई।

      परिजन की मानें तो नकाबपोश डकैत लोकल भाषा में बातचीत कर रहे थे। वह हथियार, रड और कटर से लैस थे। डकैतों का कहना था कि गांव के ही लोगों ने घर में 50 लाख के करीब जेवरात रहने की बात बताई थी।

      दंपती घर में ही किराना दुकान चलाते हैं। पति-पत्नी के अलावा घर में दो बच्चे मौजूद थे। घटना के बाद पूरा परिवार डरा सहमा हुआ है।

      रहुई थानाध्यक्ष कुणाल कुमार के अनुसार कि मेन गेट का ताला तोड़ कर परिवार को बंधक बना घटना को अंजाम दिया गया है। घटनास्थल पर एफएसएल एवं डॉग स्क्वायड की टीम को बुलाया गया। पुलिस पूरे मामले की छानबीन में जुट गई है। जल्द ही बदमाशों को पकड़कर मामले का उद्भेदन कर लिया जायेगा।

      जिले में छह महीने में पांच डकैती की वारदातः बीते छह माह के भीतर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में पांच भीषण डकैती हुई। इस डकैती में हथियारों से लैश डकैत की संख्या 10 के करीब रहती थी।

      सभी जगह हथियार से लैश होकर मध्य रात्रि के करीब घर में घुसकर गृहस्वामी को बंधक बनाते हुए डकैती की घटना को अंजाम देते हैं।  जहां भी डकैती हुई थी, डकैतों ने 20 लाख रुपये से ऊपर की डकैती की।

      पुलिस सूचना मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंचती है। और शीघ्र ही मामले का खुलासा कर डकैतों को गिरफ्तार करने की बात करती है। लेकिन विडंबना तो यह है कि 6 माह के भीतर जितने भी डकैती हुए हैं, उसमें अभी तक एक भी डकैती की घटना का उद्वेदन नहीं किया गया। जिससे डकैतों के हौसले बुलंद होते रहे।

      ऐसा नहीं है की डकैत बाहर से आते हैं, जिस घर में डकैती होती है, डकैत स्थानीय भाषा बोलते हैं और डकैती की घटना को अंजाम देने के बाद बड़े ही आराम से चले जाते हैं।

      इसी प्रकार 29 जनवरी 2024 की रात मानपुर थाना क्षेत्र के अलौडीया गांव में एक बैंक कैशियर के घर में डकैती की घटना को अंजाम दिया गया। घर में बैंक कैशियर की बूढी मां रहती थी।

      इस डकैती की घटना में भी करीब 15 लाख रुपए की संपत्ति डकैतों ने लूट ली। पीड़ित महिला ने पुलिस को एक डकैत का पूरा हुलिया भी बयां कर दी। इसके बावजूद मानपुर थाना की पुलिस डकैती की घटना का उद्वेदन नहीं कर सकी और न ही किसी डकैत को गिरफ्तार।

      इसी प्रकार रहुई थाना क्षेत्र के मोहद्दीपुर स्थित एक किराना दुकान में डकैतों ने घटना को अंजाम दिया। करीब 32 लाख रुपए की संपत्ति की डकैती की गई। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। पीड़ित को डकैती की घटना का उद्बोधन कर सामान बरामद करने का आश्वासन देकर लौट आई।

      आम लोगों के जेहन में यह सवाल उठ रहा है कि डकैती की घटना होती है। पुलिस आश्वासन देती है, लेकिन कहीं भी किसी भी घटना का उद्वेदन नहीं करती है, जबकि मारपीट की छोटी  सी घटना होती है तो अपराधी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाता है।

      आखिर क्या कारण है कि पुलिस इतनी बड़ी-बड़ी डकैती घटना होती है। इसके बावजूद उद्वेदन करने में कामयाब नहीं होती है। बिहारशरीप सदर डीएसपी डकैती घटना का उद्वेदन करने में दिलचस्पी नहीं लेते, जिससे आम लोगों में काफी रोष है।

      बीते 6 माह में हुई डकैती की घटनाओं में से एक भी घटना का उद्भेदन कर लिया जाए तो शायद आम लोगों में पुलिस पर विश्वास हो जाए।

      डकैती की पहली घटना जुलाई माह केस के करीब सोहसराय थाना क्षेत्र के मगध कॉलोनी स्थित एक मकान में भीषण डकैती हुई, जहां से डकैतों ने करीब 32 लाख रुपए की संपत्ति की डकैती की।

      इसी प्रकार नवंबर 2023 माह में बिहार थाना क्षेत्र के मुरौरा गांव स्थित एक बैंक मैनेजर के घर में मध्य रात्रि कोही डकैती हुई। इस डकैती की घटना में भी करीब एक दर्जन हथियार से लैस डकैतों ने घर में घुसकर दंपति के साथ मारपीट कर डकैती घटना को अंजाम दिया इस डकैती में करीब 15 लाख रुपए की संपत्ति की डकैती हुई।

      आसपास ही पुलिस गस्त की गाड़ी थी लेकिन भनक तक नहीं लगी। डकैती की घटना के करीब 8 घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस को डकैती की घटना का पूरा सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध करा दिया गया, लेकिन कहीं कोई सुराग अब तक नहीं मिल पाया। है।

      यह मकान बिंद प्रखंड के कथराही पंचायत के मुखिया का घर था। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, जांच की बात कही, लेकिन अभी तक घटना उद्भेदन नहीं हुआ । सामान मिलने की बात तो दूर रही। पीड़ितों को हर बार मिलता रहा आश्वासन कि जल्द ही पकड़े जायेंगे।

      पुलिस अधीक्षक अशोक मिश्रा का कहना है कि जिन गांवों में जिनके घरों में डकैती हुई है। पुलिस पूरी तत्परता से काम कर रही है। कई मामले में तो पुलिस अभियुक्त तक पहुंची है, लेकिन जब तक प्रमाण उपलब्ध नही हो जाते हैं ,तब तक कहा नहीं जा सकता।

      उहोने कहा कि मुरौरा गांव में जो डकैती हुई है, उस दकैती में शामिल अपराधी को समस्तीपुर की पुलिस ने कई कांडों में गिरफ्तार कर चुकी है। जबकि शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी करने में नालंदा पुलिस लगी हुई है। जल्द ही सभी डकैती की घटनाओं का उद्वेदन कर लिया जाएगा और डकैत जेल के सलाखों के पीछे होंगे।

      परवलपुर प्रखंड भाजपा ने जदयू सांसद के खिलाफ मुहिम छेड़ी

      अब अस्पतालों में दीदी की रसोई के साथ दीदी की सफाई भी देखने को मिलेगी

      सांसद ने राजगीर-बख्तियारपुर मेमू स्पेशल के ठहराव का किया शुभारंभ

      बारात देख रही युवती को बदमाश ने कनपटी में मारी गोली, मौत

      लोकसभा चुनाव, होली, रामनवमी को लेकर ये आठ कुख्यात हुए जिला बदर

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!