26 C
Patna
Tuesday, October 19, 2021
अन्य

    प्रशासन की मिलिभगत से खाद की किल्लत दारु-बालू की तरह बना कालाधंधा, जनप्रतिनिधि चुप

    Expert Media News Video_youtube
    Video thumbnail
    बंद कमरा में मुखिया पति-पंचायत सेवक का देखिए बार बाला डांस, वायरल हुआ वीडियो
    01:37
    Video thumbnail
    नालंदाः सूदखोरों ने की महादलित की पीट-पीटकर हत्या, देखिए EXCLUSIVE Video रिपोर्ट
    05:26
    Video thumbnail
    नालंदाः नगरनौसा में अंतिम दिन कुल 107 लोगों ने किया नामांकण
    03:20
    Video thumbnail
    नालंदा में फिर गिरा सीएम नीतीश कुमार की भ्रष्ट्राचारयुक्त निश्चय योजना की टंकी !
    03:49
    Video thumbnail
    नगरनौसा में पांचवें दिन कुल 143 लोगों ने किया नामांकन पत्र दाखिल
    03:45
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55

    इसलामपुर (नालंदा दर्पण )। इसलामपुर प्रखंड बाजार और उसके आसपास व्यापक पैमाने पर खाद की कालाबाजारी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है।

    With the connivance of the administration the shortage of manure became like liquor and sand the public representatives remained silent 2सूत्रों के अनुसार एक तरफ जहाँ किसान सामने खाद की किल्लत झेल रहे हैं। उन्हें सड़क पर लंबी कतार में खड़े होने पड़ रहे हैं।

    वहीं यहाँ रात अंधेरे पुलिस-प्रशासन की मिलिभगत से जमाखोर-दुकानदार लोग खाद कालेबाजारी कर रहे हैं।

    बहरहाल सूत्रों के हवाले से रात अंधेरे खाद की कालाबाजारी होते जिस तरह की तस्वीरें सामने आई है, वे काफी चौंकाने वाले हैं।

    दिन के उजाले में जहाँ महिला-पुरुष किसानों की खाद दुकान पर भारी भीड़ उमड़ रही है, वहीं रात अंधेरे उंची कीमत पर मनमाना खाद बेची जा रही है।

    पुलिस-प्रशासन की संलिप्तता ने दारु-बालू की तरह किल्लत को बड़ा कालाधंधा बना दिया है।

    इस ओर किसानों के हित में काम करने के ढिंढोरे पीटकर निर्वाचित जनप्रतिनिधि का भी कोई ध्यान नहीं है।

    With the connivance of the administration the shortage of manure became like liquor and sand the public representatives remained silent 1

     

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    संबंधित खबरें

    326,897FansLike
    8,004,563FollowersFollow
    4,589,231FollowersFollow
    235,123FollowersFollow
    5,623,484FollowersFollow
    2,000,369SubscribersSubscribe