अन्य
    अन्य

      मुजफ्फरनगर में विशाल किसान महापंचायत आज, नालंदा से भी पहुंचे हजारों किसान

      नालंदा दर्पण डेस्क। पिछले दस महीने से तीन‌ काले कृषि बिल को रद्द करने की मांग को लेकर दिल्ली और यूपी बार्डर पर डेरा जमाएं लाखों किसान अब आर पार की मूड में आ गए हैं।

      Huge Kisan Mahapanchayat in Muzaffarnagar today thousands of farmers also reached from Nalanda 1आज पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर में महापंचायत हो रहा है। जो हर मायने में ऐतिहासिक होने जा रहा है। इस महापंचायत के लिए देश के कोने-कोने से किसान‌ मुजफ्फरनगर पहुंच चुके हैं। इसमें नालंदा जिले से भी हजारों की संख्या में किसान पहुंचे हुए हैं।

      नालंदा से जुडे विभिन्न किसान संगठनों ने मुजफ्फरनगर में डेरा जमा लिया है।बिहारी कृषि परिवार की ओर से भी किसानों का जत्था पहुंच गया है।

      नालंदा के चंडी और नगरनौसा से किसान आंदोलन में सक्रिय धर्मेंद्र कुमार भी मुजफ्फरनगर पहले से ही पहुंचे हुए हैं। उनका कहना है कि आने वाली पीढ़ी को अपने संतानों को आजाद रखने की चाह है तो कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे नालंदा में हैं या मुजफ्फरनगर में। गांधी जी ने ‘करो या मरो का’ नारा दिया था। आज एक बार फिर से वही दृश्य यहां दिख रहा है।

      धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि किसान महापंचायत हर तरह से ऐतिहासिक होगा। नालंदा के हर गांव से किसान यहां आएं हुए हैं। यह महापंचायत किसानों की अस्मिता से जुड़ीं हुईं हैं।

      बताया जा रहा है कि संयुक्त किसान मोर्चा के आदेश पर रविवार को मुजफ्फरनगर में यह  महापंचायत बुलाई गई है। जिसमें तीस लाख किसान पहुंचेंगे।

      इस महापंचायत की एक खास बात यह भी होगी कि अपने बड़े भाई और भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत के साथ किसान आंदोलन के दौरान राकेश टिकैत पहली बार मंच साझा करेंगे। जीआईसी मैदान पर होने वाली इस महापंचायत में बड़ी संख्या में किसानों का पहुंचना जारी है।

      भाकियू प्रवक्ता ने बताया कि महापंचायत के मंच का सीधा प्रसारण करने के लिए बड़े-बड़े स्क्रीन लगाए जा रहे हैं। उन्होंने मुजफ्फरनगर वासियों से कहा कि बाहर से आने वाले सभी मेहमानों की हमें अपनी परंपरा के मुताबिक मेहमान नवाजी के लिए तैयार रहना है। शहर के दुकानदार भाई भी पंचायत में आने वाले लोगों का ख्याल रखें, ताकि उन्हें कोई परेशानी न हो।

      उन्होंने कहा कि आज होने वाली इस महापंचायत में किसानों के हितों में आन्दोलन जारी रहेगा। करीब नौ माह से उनका आन्दोलन जारी है। आज होने वाली इस महापंचायत में कृषि कानूनों के बारे में विस्तार से जानकारी दी जायेगी।

      उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की बात नहीं सुन रही है। इस पंचायत में सभी राज्यों के किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के अलावा खाप पंचायत के लोग भी आयेंगे।

      उन्होंने किया स्पष्ट किया कि इस पंचायत में केवल किसान ही मौजूद रहेंगे। उन्होंने बताया कि महापंचायत की तैयारियों में जिला प्रशासन के साथ उनका तालमेल रहेगा।

      मंत्री-अफसर की हिदायत के बाबजूद शिक्षण संस्थान वसूल रहे मनमाना शुल्क, विभाग बना अंधा
      …और मियां बिगहा गाँव में मचा हड़कंप,जब पहुंची आर्थिक अपराध ईकाई की टीम,जानें पूरा मामला
      होटल संचालक को मैसेज भेजकर 10 लाख रुपए की रंगदारी माँगने वाले दो आरोपी धराए
      गैस एजेंसी कर्मी को दिनदहाड़े पिस्तौल दिखाकर 24 हजार रुपए नगद और दो मोबाईल की लूट
      मगध महाविद्यालय निर्वाचन नामावली प्रारूप में धांधली, प्राचार्य का नाम जोड़ा, प्रोफेसर का हटाया

       

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      Related News