अन्य
    Monday, February 26, 2024
    अन्य

      राजगीर मकर मेला में पुरस्कृत होंगे कृषि उत्पादक, होगा राष्ट्रीय पहलवानों का दंगल

      नालंदा दर्पण डेस्क। राजगीर राजकीय मकर मेला की तिथि नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे मेले की तैयारी भी जोर पकड़ती जा रही है। मेला शुरू होने में तीन दिन बाकी बचे हैं। युवा छात्रावास ( मेला थाना) के लगने वाले मेला क्षेत्र की सफाई नगर परिषद द्वारा करायी गयी है।

      Agricultural producers will be rewarded in Rajgir Makar Mela there will be a riot of national wrestlers 1यह जानकारी देते हुए नगर परिषद की कार्यपालक पदाधिकारी सह सहायक समाहर्ता दिव्या शक्ति ने आगे बताया कि जिस व्यवस्था के लिए उन्हें नामित किया गया है। उसकी तैयारी उनके द्वारा लगभग पूरी कर ली गयी है। साफ-सफाई की व्यवस्था अब तक आवश्यकता अनुसार पूरी की गयी है। मेला आरंभ होने के बाद सफाई व्यवस्था को और चुस्त-दुरुस्त किया जायेगा।

      मेला क्षेत्र में पेयजल, रोशनी, बिजली, सुरक्षा आदि व्यवस्था का पुख्ता प्रबंध किया जा रहा है। संत समागम स्नान और महाआरती की तैयारी भी लगभग पूरी कर ली गयी है। युवा छात्रावास के इर्द गिर्द स्टॉल निर्माण का कार्य भी युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। रंगमंच के ठीक सामने जर्मन हैंगर पंडाल का निर्माण कार्य द्रूत गति से किया जा रहा है।

      इसके अलावा पशु प्रदर्शनी, कृषि में उत्पाद प्रदर्शनी, व्यंजन मेला, विभागीय प्रदर्शनी, कृषि प्रदर्शनी सहित अन्य कार्यक्रमों के लिए स्टॉल बनाये जा रहे हैं। प्रस्तावित स्टेट गेस्ट हाउस परिसर फुटबॉल के लिए मैदान तैयार कर लिया गया है। क्रिकेट, वॉलीबॉल, कबड्डी, एथलेटिक्स आदि के लिए खेल मैदान तैयार किया जा रहा है।

      मकर मेला क्षेत्र में आ रहे तीर्थ यात्रियों के लिए दो चलंत शौचालय धुनीबर के बनाये जा रहे स्टॉल। समीप लगाया गया है। एक पुरुष और एक महिला के लिए अलग-अलग यह व्यवस्था की गयी है।

      ऐतिहासिक अजातशत्रु स्तूप और धुनीबर के समीप दंगल आयोजन की तैयारी की जा रही है। अखाड़ा बनाने का काम लगभग पूरा कर लिया गया है। इस दंगल में बिहार के अलावा उत्तर प्रदेश, झारखंड, दिल्ली, हरियाणा सहित अन्य जगहों के पुरुष और महिला पहलवान अपना जोर आजमाइश करेंगे।

      मकर मेले का आकर्षण दुधारू पशु प्रदर्शनी और किसानों के उत्पाद होंगे। प्रशासन की तरह किसान भी अपने उत्पाद को मकर मेले में ले जाने की तैयारी कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में इसका प्रचार-प्रसार नहीं हो रहा है।

      कई गांवों के ग्रामीणों ने बताया कि गांव में प्रचार-प्रसार नहीं हुआ है। इसलिए सभी गांवों के लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है।

      जिला कृषि पदाधिकारी महेंद्र प्रताप सिंह बताते हैं कि कृषि मेला और प्रदर्शनी के लिए तैयारियां जोर-जोर से की जा रही हैं। दुधारू पशु प्रदर्शनी के अलावा किसानों के उत्पादों की भी प्रदर्शनी लगेगी। इसमें कृषि विभाग, उद्यान विभाग, पशुपालन विभाग, मत्स्य पालन विभाग और गव्य विकास विभाग का सहयोग है।

      उन्होंने बताया कि इसके लिए 10 स्टाल लगाये गये जा रहे हैं। कृषि उत्पादन प्रदर्शनी में किसान अपने उत्पाद मूली, गाजर, कद्दू, कोहड़ा, बैगन, फूलगोवी, पतगोवी एवं अन्य उपज को लगायेंगे। सर्वश्रेष्ठ उत्पाद को जिला प्रशासन द्वारा पुरस्कृत किया जायेगा।

      मकर मेले के अवसर पर कृषि मेले में कृषि यंत्रों के अलावा घरेलू उपयोग के लिए कोठी आदि की भी व्यवस्था रहेगी। उसे किसानों को अनुदानित दर पर उपलब्ध कराया जायेगा।

      अतिक्रमण से खतरे में बिहारशरीफ की जीवन रेखा पंचाने नदी का अस्तित्व

      राजगीर मकर संक्रांति मेला की तैयारी जोरों पर, यहाँ पहली बार बन रहा जर्मन हैंगर

      सोहसराय थानेदार का वायरल हुआ भरी भीड़ में गाली-गलौज करता वीडियो

      BPSC टीचर्स को यूं टॉर्च की रौशनी में अपना लेक्चर झाड़ गए KK पाठक

      जानें राजगीर के लिए क्यों खास है वर्ष 2024 ?

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      - Advertisment -
      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!