अन्य
    Tuesday, May 28, 2024
    अन्य

      नालंदा परिभ्रमण पर आए बच्चों-शिक्षकों को सिलाव में लाठी-डंडे से दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

      बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। देश-दुनिया में प्रसिद्ध नालंदा जिला का खाजा नगरी सिलाव से एक बहुत दुःखद खबर आई है। जहां खाजा दुकानदारों द्वारा नालंदा परिभ्रमण पर आए स्कूली बच्चोंं और शिक्षकों के साथ बीच सड़क लाठी-डंडे से दौड़ा-दौड़ाकर मारपीट की गई है। जिसमें दर्जन भर लोग जख्मी बताए जाते हैं।

      खबरों के अनुसार खाजा दुकानदारों द्वारा करीब आधा घंटा तक सिलाव बाइपास पर थाना से महज सौ मीटर की दूरी पर ही पर्यटक बच्चों एवं उनके साथ आए शिक्षक को आधे घंटे तक भगा भगा कर लाठी डंडे से जमकर पिटाई की गई है। इस दौरान एक दर्जन से अधिक छात्र-छात्राओं समेत शिक्षक और वाहन चालक जख्मी हो गए।

      नजारा यह था कि खाजा दुकानदारों ने बेरहमी से लोहे की रॉड और डंडे के पिटाई करते रहे, इस दौरान आधे घंटे छात्र छात्रा चिल्लाते हुए इधर उधर भागते रहे। ताकि जान बच सके।

      वहीं महज सौ मीटर दूरी पर अवस्थित सिलाव थानाध्यक्ष मो. इरफान खान खुद दलबल के साथ पहुंचे। जिसके बाद मारपीट कर रहे लोग भाग निकले। थानाध्यक्ष चोटिल हुए छात्र-छात्राओं को बस में बिठाकर गन्तव्य तक भेज दिया और गंभीर रूप से जख्मी हुए तीन लोगों को पीएचसी सिलाव में इलाज हेतु भर्ती कराया।

      बताया जाता है कि पटना जिला के पुनपुन थाना क्षेत्र अंतर्गत बेल्दरिया चक स्थित एक कोचिंग सेंटर के छात्र छात्रा हेरिटेज परिभ्रमन के लिए नालंदा आये थे। राजगीर से लौटने के क्रम में खाजा नगरी सिलाव में बायपास पर काली खाजा दुकान के पास बस खड़ी कर उस दुकान से खाजा खरीदने लगे।

      वहीं एक छात्रा से दुकानदार ने पैसा लेने के बाद भी कहा कि पैसा बाकी है। जिसके बाद बच्चों ने जब कहा कि पैसा दिया हूं तो दुकानदार तू तू मैं मैं करने लगा और देखते ही देखते दुकानदार लाठी-डंडे चलाने लगा। जिसे करीब आधे घंटे तक सिलाव बायपास रणक्षेत्र बना रहा।

      इसकी सूचना मिलने के बाद सिलाव थाना पुलिस के आते ही मामला शांत हुआ। जख्मी हुए पर्यटक को पुलिस ने प्राथमिक चिकित्सा केंद्र में इलाज का कोरम पूरा कर पर्यटकों को पूरी रात थाना में रात बिठाए रखा। जबकि जख्मी हुए पर्यटक मामला दर्ज कराने की लेकर गुहार लगाते रहे।

      वहीं पुलिस स्थानीय लोगों के दबाव में आकर मामले को दबाने का भरपूर प्रयास किया और कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गयी। थानाध्यक्ष ने दोनों पक्षों से एक दूसरे पर मारपीट किये जाने का मामला दर्ज कराया।

      इस संबंध में थानाध्यक्ष का कहना है कि एक्ट 41 के तहत कार्रवाई करते हुए थाना से दोनों पक्षों को रिहाई कर दी गयी है। हालांकि इस मामले में पर्यटकों के साथ पुलिस के द्वारा किये गए कार्रवाई से कुछ संवेदनशील लोग नाखुश दिखे और बताया कि खाजा दुकानदार ही पूर्ण रूप से दोषी है।

      बाबजूद थाना पुलिस कुछ लोगो के प्रभाव में आकर दोषी खाजा दुकानदार को कानून के शिकंजे से बचाया गया है, और पर्यटकों के साथ नाइंसाफी किया गया है। ऐसी घटना से पूरे खाजा दुकानदारों की बदनामी हुई है। साथ ही पुलिस की ऐसी कार्रवाई से दबंग दुकानदारों का मनोबल और बढ़ेगा।

      थरथरी में देसी कट्टा लिए युवक की तस्वीर फिर वायरल, गिरफ्तार

      पांच साल बाद नौकायन से फिर गुलजार हुआ सुभाष पार्क

      लोकसभा चुनाव और पर्व-त्योहार बहुत गरम हैं नालंदा डीएम-एसपी

      अब जीपीएस सिस्टम से यूं सुधरेगी पर्यटक शहर राजगीर की सफाई व्यवस्था

      चौथा दिन भी बंद है पूरा बाजार, जानें CM नीतीश के हरनौत का हाल

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!