अन्य
    Monday, February 26, 2024
    अन्य

      पिछले 7 दिनों के भीतर जानें किन 56 फर्जी नियोजित शिक्षकों पर हुई एफआईआर

      नालंदा दर्पण डेस्क। समूचे नालंदा जिला में फर्जी दस्तावेज या प्रमाण-पत्रों पर बहाल नियोजित शिक्षकों पर कार्रवाई होने से वैसे शिक्षकों के बीच हड़कंप मचा हुआ है। निगरानी विभाग की जांच में फर्जी दस्तावेज पर बड़ी संख्या में शिक्षकों के बहाल होने का खुलासा हुआ है। हफ्ते भर में 56 नियोजित शिक्षकों के प्रमाण-पत्र या अन्य दस्तावेज संबंधित बोर्ड की जांच में गलत पाये गये हैं। इन शिक्षकों के विरुद्ध संबंधित थानों में एफआईआर दर्ज करायी जा चुकी है।

      हरनौत प्रखंड के वाजितपुर स्कूल की प्रधान शिक्षिका के प्रमाण पत्र गलत होने पर गोखुलपुर ओपी थाने में एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस ने शिक्षिका रीता रानी को गिरफ्तार किया जा चुका है। हिलसा, करायपसुराय, नालंदा, अस्थावां, इस्लामपुर, तेल्हाड़ा, बेन, परवलपुर, खुदागंज व बिहारशरीफ थानों में 56 शिक्षकों के विरुद्ध एफआईआर करायी गयी है।

      निगरानी इंस्पेक्टर लाल मोहम्मद ने बताया कि पकड़ीबिगहा प्राइमरी स्कूल की शिक्षिका मंजू कुमारी, बेन प्रखंड के नत्थुबिगहा प्राइमरी स्कूल के धर्मेन्द्र कुमार का दिव्यांगता प्रमाण- पत्र जांच में फर्जी मिलने पर थाने केस दर्ज कराया है। इस्लामपुर प्रखंड में कोरवा मध्य विद्यालय की एक शिक्षिका का भी दिव्यांगता प्रमाण-पत्र गलत पाया गया है।

      वहीं गिरियक प्रखंड में बाछी बिगहा मध्य विद्यालय के उमेश कुमार, आदमपुर स्कूल की आकांक्षा कुमारी, गुलजारबिगहा स्कूल की सुधा कुमारी, सकुचीसराय मध्य विद्यालय स्कूल के बबलू कुमार, सिलाव प्रखंड के विपीन कुमार, रंगीलाबिगहा प्राइमरी के नालंदा विद्यापीठ की रिया कुमारी, कुमार, जुआफरडीह मध्य विद्यालय धरहरा मध्य विद्यालय के रविशंकर विद्यालय के सुजीत कुमार, रघुबिगहा के शशिरंजन कुमार, पांकी मध्य के सुजीत कुमार, प्राइमरी स्कूल की रेखा कुमारी, नालंदा थाना के नोनाबिगहा प्राइमरी स्कूल की गूंजन कुमारी, कपटिया प्राइमरी स्कूल भट्टबिगहा प्राइमरी स्कूल के उमेश की शोभा कुमारी व सुनीता कुमारी, कुमार, पकरीसराय प्राइमरी स्कूल की बड़ाकर उर्दू मध्य विद्यालय के नवलेश प्रिया कुमारी, सिलाव प्रखंड व बेलौर मध्य विद्यालय के मनीष पर एफआईआर दर्ज कराई गयी है।

      डीईओ जियाउल होदा खान के अनुसार निगरानी जांच में पहले भी जिले के 79 नियोजित शिक्षकों के दस्तावेज गलत पाये गये थे। निगरानी विभाग द्वारा संबंधित थानों में मुकदमा दर्ज कराया गया है। विभाग द्वारा नियोजन इकाई को शिक्षकों को चयनमुक्त करने का आदेश दिया जा चुका है।

      स्थापना डीपीओ सुजीत कुमार राउत के अनुसार नियोजन इकाइयों को शिक्षकों पर कार्रवाई करने लिए कई बार पत्र भेजा जा चुका है। जिले के 9,635 नियोजित शिक्षकों के प्रमाण-पत्रों की जांच निगरानी द्वारा संबंधित बोर्ड से करायी जा रही है। निगरानी जांच से फर्जी दस्तावेजों पर बहाल शिक्षकों में हड़कप मचा है।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      - Advertisment -
      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!