अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      राजगीर नगर में देवी स्थान मंदिर की दुकानों के नाम पर धोखाधड़ी का धंधा, FIR दर्ज

      राजगीर (नालंदा दर्पण)। राजगीर नगर के एकमात्र देवी स्थान मंदिर की जमीन पर बनी दुकानों के आवंटित दुकानदारों द्वारा अपनी दुकान को मोटी रकम लेकर बेची जा रही है। दूसरी और उनके द्वारा मंदिर कमेटी को वर्षों से किराये का भुगतान नहीं किया जा रहा है। इसका खुलासा मधुसुदन साव, पिता स्वर्गीय अर्जून साव के द्वारा राजगीर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद हुआ है।

      प्राथमिकी में मधुसुदन साव ने कहा है कि वह स्थानीय धर्मशाला रोड में फुटपाथ पर इटली- ढोसा की दुकान चलाते हैं। उसमें उसे काफी परेशानी होती है। परेशानी से बचने के लिए देवनंदन प्रसाद, पिता स्वर्गीय गर्भू साव, तुलसी गली, राजगीर की दुकान 28 लाख रुपये में तय हुआ था।

      उनके द्वारा कहा गया है कि देवनंदन प्रसाद ने उन्हें नहीं बताया कि दुकान देवी स्थान मंदिर कमेटी का है। आवेदक का आरोप है कि देवनन्दन प्रसाद द्वारा जाली कागजात दिखाकर उनसे धोखाधड़ी की की गयी है।

      पहले चार लाख चार हजार रुपये नगद दिये बाद में 15 लाख 96 हजार रुपये पंजाब नेशनल बैंक, राजगीर के अपने खाता से देवनंदन प्रसाद के एसबीआइ राजगीर के एकाउंट में 28।12।2023 को ट्रांसफर किया है। 20 लाख रुपये भुगतान बाद जब वह दुकानें में रोजगार आरंभ किया, तो उन्हें पता चला कि यह दुकान देवी स्थान मंदिर कमिटी की है।

      आवंटित दुकानों को अवैध रूप से किराये पर लगा कर आर्थिक लाभ लेने का आरोपः देवी स्थान मंदिर कमेटी के कोषाध्यक्ष निरंजन प्रसाद द्वारा अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण कोर्ट में परिवाद दाखिल किया गया है। इस परिवाद के लोक प्राधिकार सह थानाध्यक्ष, राजगीर द्वारा कोर्ट को प्रतिवेदित किया है कि आवेदक द्वारा कहा गया है कि धर्मशाला रोड, राजगीर में देवी स्थान मंदिर, जो खेसरा- 4864 में है।

      मंदिर की जमीन पर आठ दुकानों का निर्माण कराकर किराया पर अलग-अलग लोगों को आवंटित किया गया है। किराये की राशि से मंदिर परिसर की साफ सफाई, सौंदर्यकरण, निर्माण आदि किया जाता है। परंतु आवंटित किरायेदारों द्वारा वर्षों से किराया नहीं दिया जा रहा है।  कई टुकानदारों द्वारा आवंटित दुकानों को बेच दिया है अथवा दूसरे व्यक्ति को किराया लगाकर आर्थिक लाभ प्राप्त कर रहे हैं।

      देवनंदन साव इस दुकान का किरायेदार है मालिक नहीः राजगीर थानाध्यक्ष चन्द्रभानु ने बताया कि कांड दर्ज किया गया है। पुलिस द्वारा मामले की जांच पड़ताल और आरोपित की गिरफ्तारी की कार्रवाई की जा रही है।

      थाना पुलिस द्वारा आवेदन में वर्णित तथ्यों की जांच पड़ताल करने पर पता चला कि देवी स्थान मंदिर की जमीन पर आठ दुकानें हैं। मंदिर कमिटी के सदस्य पारस उपाध्याय, देवनंदन साव, श्रीकांत गुप्ता, राजेश कुमार गुप्ता, श्याम गुप्ता हलवाई, कासी यादव, नरेश सवर्णकार और कृष्णा साव के नाम दुकान आवंटित है।

      जाँच में पता लगा कि सभी दुकानदारों द्वारा कई वर्षों से तय किराया राशि का भुगतान नहीं किया गया है। दुकानदार पारस उपाध्याय, देवनंदन साव, श्रीकांत गुप्ता, नरेश स्वर्णकार और कृष्णा साव द्वारा अपनी आवंटित दुकानों को दूसरे व्यक्ति को किराया पर देकर आर्थिक लाभ कमा रहे हैं। देवनंदन साव के द्वारा आवंटित अपनी दुकान को मधुसुदन साव को बेचने के लिए एग्रीमेंट किया गया है।

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=wncTQJGNzZ4[/embedyt]

      जमीन कारोबारी हत्याकांड का खुलासा, सगा चाचा गिरफ्तार

      जंगली जानवरों ने हमला कर 40 बकरियों को मौत के घाट उतारा, ग्रामीणों में दहशत

      युवक ने नग्न अवस्था में मोबाइल से ऑनलाइन वीडियो दिखाते हुए लगा ली फांसी

      सरस्वती पूजा-शबे बारात को लेकर डीएम की अध्यक्षता में शांति समिति की बैठक

      बिहारशरीफ सदर अस्पताल में नवजात की मौत मामले में सिविल सर्जन को लगी कड़ी फटकार

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!