अन्य
    Friday, April 12, 2024
    अन्य

      हिलसा नगर परिषद के सभी 26 वार्ड में संचालित योजनाओं की होगी जांच

      हिलसा (नालंदा दर्पण)। हिलसा नगर परिषद द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं में बड़े पैमाने पर लूट खसोट की शिकायत किए जाने के बाद अनुमंडल पदाधिकारी प्रवीण कुमार ने सभी योजनाओं की जांच करने का आदेश दिया है।

      अनुमंडल पदाधिकारी ने कहा कि नगर परिषद के सभी 26 वार्ड में संचालित योजनाओं से संबंधित बोर्ड कार्य स्थल पर अनिवार्य रूप से लगाया जाए।

      उन्होंने नागरिकों को आश्वस्त किया कि कहीं भी कार्य में कोई गड़बड़ी होती है तो वह सीधे मुझे सूचना दें। दोषियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

      वहीं दूसरी तरफ सूर्य मंदिर तालाब की सीढ़ी निर्माण में घटिया सामग्री एवं भारी गड़बड़ी का मामला उजागर होते ही नगर परिषद ने कनीय अभियंता मो. मशकूर आलम को कार्य से हटकर अपना पल्ला झाड़ लिया।

      बताया जाता है कि सूर्य मंदिर तालाब में सीढ़ी बनाने के लिए तय मानक के अनुसार 10 फीट गहराई में पिलर बनाना था। लेकिन व्याप्त भ्रष्टाचार एवं कमीशन खोरी के कारण संवेदक द्वारा मात्र 3 फीट गहराई में पिलर बनाया गया था।

      इसे लेकर शहर के सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा इस गड़बड़ी का उजागर करने के बाद नगर परिषद कार्यालय में आपात बैठक की गई। बैठक में निर्माण कार्य की देखरेख कर रहे कनीय अभियंता मो मशकूर आलम को कार्य से मुक्त करने का निर्णय लिया गया। लेकिन इस गोरख धंधे में संलिप्त बड़े अधिकारियों को क्लीन चिट दे दिया गया।

      वहीं, वार्ड पार्षद विजय कुमार विजेता ने कहा कि करीब 61 लाख रुपए कि इस योजना में व्याप्त गड़बड़ी के लिए मुख्य पार्षद, कार्यपालक पदाधिकारी भी जिम्मेदार हैं।

      इस तरह के लूट के जिम्मेवार मुख्य पार्षद धनंजय कुमार की दलील है कि इस योजना में गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर उन्होंने नगर परिषद कार्यालय में आपात बैठक बुलाई और गड़बड़ी की जांच का आदेश दिया गया। प्रथम दृष्टया अनियमित के लिए जिम्मेदार कनीय अभियंता को इस कार्य से हटा दिया गया है।

      सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए आरोप के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि यदि उनकी संलिप्तता साबित होती है तो वह अपने पद से त्यागपत्र दे देंगे।

      वहीं अनुमंडल पदाधिकारी ने नागरिकों की शिकायत के बाद कार्य स्थल का निरीक्षण किया और इस दौरान तालाब की सीढ़ी निर्माण में भारी अनियमितता पाई गई। उन्होंने इसकी जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया है। कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद दोषी लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की बात कही है।

      पांच साल बाद नौकायन से फिर गुलजार हुआ सुभाष पार्क

      लोकसभा चुनाव और पर्व-त्योहार बहुत गरम हैं नालंदा डीएम-एसपी

      अब जीपीएस सिस्टम से यूं सुधरेगी पर्यटक शहर राजगीर की सफाई व्यवस्था

      चौथा दिन भी बंद है पूरा बाजार, जानें CM नीतीश के हरनौत का हाल

      होली मनाना पड़ा महंगा, 20 शिक्षकों पर कार्रवाई की अनुशंसा

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!