अन्य
    Monday, June 24, 2024
    अन्य

      अब सरकारी स्कूल के बच्चों को एमडीएम के साथ दूध भी मिलेगा

      नालंदा दर्पण डेस्क। आगामी एक जुलाई से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मध्याहन भोजन (एमडीएम) योजना अन्तर्गत निर्धारित मेनू के अतिरिक्त दूध भी मिलेगा।

      मध्याह्न भोजन योजना निदेशक इस आशय का जारी आदेश कहा है कि सूबे के 44 प्रखंडों के लिए विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं का चयन किया गया है। नव चयनित स्वयंसेवी संस्थाओं के द्वारा प्रत्येक सप्ताह के एक कार्य दिवस में निर्धारित मेनू के अतिरिक्त गर्म तरल दूध विद्यालयों के बच्चों को देने का आदेश दिया गया है। वर्ग 1-5 के बच्चों 100 एमएल और वर्ग 6-8 के बच्चों को 150 एमएल गर्म तरल दूध देना है।

      जारी आदेश के अनुसार पूर्व से कार्यरत केन्द्रीयकृत रसोईघर के द्वारा भी मध्याहन भोजन योजना अन्तर्गत निर्धारित मेनू के अतिरिक्त विद्यालयों में दूध की आपूर्ति सप्ताह के एक कार्यदिवस में किया जायेगा।

      बताया गया है कि मध्याह्न भोजन योजना अन्तर्गत मंगलवार के दिन बच्चों को गर्म तरल दूध दिया जायेगा। वर्ग 1-5 तक के बच्चों के लिए 100 एमएल व वर्ग 6-8 तक के बच्चों के लिए 150 एमएल तरल दूध दिया जायेगा। 100 एमएल तरल दूध तैयार करने के लिए 12 ग्राम दुग्ध पाउडर एवं 150 एमएल तरल दूध तैयार करने के लिए 18 ग्राम दुग्ध पाउडर का उपयोग करने के लिए कहा गया है।

      स्वयंसेवी संस्था के द्वारा लाभांवितों के आधार पर केन्द्रीयकृत रसोईघर में उपलब्ध केटल (बर्तन) में पानी गरम कर उपरोक्त निर्धारित मात्रा के अनुसार दुग्ध चूर्ण मिलाकर तरल दूध तैयार किया जाना है। तैयार दूध को परिवहन के माध्यम से इन्सुलेटर कन्टेनर में रख कर विद्यालयों तक पहुंचाया जाना है। तैयार तरल दूध ही स्कूली बच्चों को दिया जायेगा।

      जारी आदेश के अनुसार दूध की आपूर्ति पर होने वाला व्यय का वहन संबंधित स्वयं सेवी संस्था के द्वारा किया जायेगा। इसके लिए अतिरिक्त राशि देय नहीं होगी। संबंधित संस्था के द्वारा दूध के आपूर्ति के उपरान्त विद्यालय में दूध चखकर उसकी गुणवत्ता पंजी पर दर्ज करने के आदेश भी दिये गये हैं। संस्था द्वारा दूध की गुणवत्ता की पंजी संधारित की जायेगी।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!