अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      अब CBSE स्कूलों में नामांकन से पहले होगी छात्रों की यूनिक नंबर की जांच

      नालंदा दर्पण डेस्क। नालंदा जिला मुख्यालय बिहारशरीफ में सहोदय क्लस्टर की हुई विशेष बैठक में नवादा, नालंदा व शेखपुरा जिलों के सीबीएसई से मान्यता प्राप्त स्कूलों के प्रिंसीपल शामिल हुए। जिसमें सीबीएसई स्कूलों में नामांकन से पहले छात्रों की स्थायी नामांकन संख्या से पहचान करने का निर्णय लिया गया। इसके बाद ही नामांकन लेने पर सहमति बनी।

      इस मौके पर वक्ताओं ने कहा कि अवैध कोचिंग संस्थानों व अवैध तरीके से संचालित स्कूलों के बच्चों का सीबीएसई स्कूलों में नामांकन नहीं लिये जाने के निर्णय का सख्ती से पालन किया जाएगा।

      उन्होंने कहा कि खासकर, नौवीं व 11वीं में नामांकन पर पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है। यह निर्णय छात्रों की शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाने के लिए लिया गया है। कई कोचिंग संस्थान और बिना मान्यता प्राप्त स्कूल छात्रों को केवल परीक्षा पास करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। ऐसे में बच्चों को सर्वांगीण विकास नहीं हो पाता है।

      उन्होंने अभिभावकों से भी आग्रह किया कि बच्चों का स्कूल में नामांकन कराने से पहले स्कूल की मान्यता प्राप्त होने की पूरी तरह से छानबीन कर लें। बच्चों को हर हाल में नामांकन सीबीएसई या फिर बिहार सरकार से मान्यता प्राप्त स्कूलों में ही कराएं। ताकि, भविष्य में छात्रों को किसी तरह की परेशानी नहीं झेलनी पड़े।

      उन्होंने कहा कि बिना मान्यता प्राप्त स्कूल और कोचिंग स्कूल से सावधान रहने की जरूरत है। हमारा लक्ष्य जिले के सभी बच्चों के भविष्य को बचाना है।

      जानें आखिर क्या है स्थायी नामांकन संख्या: दरअसल स्कूल में नामांकिन बच्चों को यू-डायस में इंट्री होने के बाद स्वत: 12 अंकों का यूनिक नंबर जारी होता है। इस नंबर को ही स्थायी नामांकन संख्या कहा जाता है। एक बच्चे का एक ही नंबर जेनरेट हो सकता है। ऐसे में एक स्कूल में नामांकिन होने पर बिना नामांकन रद्द कराएं दूसरे स्कूल में नामांकन नहीं लिया जा सकता है।

      कोई भी स्कूल में नामांकन लेने से पहले स्थायी नामांकन संख्या से छात्रों के पूर्व के स्कूलों की जानकारी हासिल की जा सकती है। यह संख्या छात्र के पूरे शैक्षिक जीवनकाल में उनके साथ रहती है। यह संख्या छात्रों की पहचान को सत्यापित करने और उनके शैक्षिक रिकॉर्ड को सुरक्षित रखने में मदद करती है।

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=nTxQIxOMLBs[/embedyt]

      मुखिया को नहीं पता कहां है पंचायत की संचिकाएं, रोजगार सेवक कहता है- तू नीच जात है…

      नालंदा लोकसभा चुनाव को लेकर सभी हेलीपैडों को अलर्ट रखने का आदेश

      बैंककर्मियों ने बिहारशरीफ नगर में ऋण वापसी को लेकर चलाया अनोखा अभियान

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=H4XgbdyJs0Q[/embedyt]

      राजगीर-बिहारशरीफ मार्ग पर महिला की गला रेतकर निर्मम हत्या

      नालंदा में BSEB की बड़ी कार्रवाई, 36 हाई स्कूल की मान्यता रद्द

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!
      बिहारशरीफ नगर का रमणीक स्थान हिरण्य पर्वत नकली और असली दवाइयां में पहचान के तरीके दुनिया का पहला प्रसिद्ध विश्व शांति स्तूप राजगीर बिहार की सैर कीजिए जानें राजगीर ब्रह्म कुंड का अद्भुत रहस्य ई BPSC टीचर बच्चों के बीच क्या मिमिया रहा है KK पाठक साहब?