अन्य
    Thursday, May 30, 2024
    अन्य

      नालंदा में औसतन 53 छात्रों को पढ़ाते हैं केवल एक शिक्षक

      बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। नालंदा जिले में शिक्षा अधिकार अधिनियम को अमलीजामा पहुंचाने में सरकारी स्कूलों की काफी अहम भूमिका है। आज भी जिले के लगभग 90 फ़ीसदी बच्चे सरकारी स्कूलों में ही पढ़ाई कर रहे हैं। इन स्कूलों की पहुंच जिले के सुदूर क्षेत्रों में भी समान रूप से है। इसलिए सरकारी स्कूलों का महत्व और अधिक बढ़ जाता है।

      वर्तमान में जिले के विभिन्न प्रखंडों में कुल 1348 प्राथमिक विद्यालय मौजूद हैं। इन सभी स्कूलों में पहली कक्षा से लेकर पांचवी कक्षा तक में लगभग 267826 बच्चे नामांकित हैं। इन स्कूलों में लगभग 5016 शिक्षक वर्तमान में नियुक्त हैं। हालांकि ये शिक्षा का अधिकार अधिनियम के हिसाब से काफी कम अनुपात में हैं।

      शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत प्राथमिक शिक्षा में 30 बच्चों को पढ़ाने के लिए एक शिक्षक की अनिवार्यता बताई गई है। जबकि जिले में 53 छात्र को पढ़ाने के लिए एक शिक्षक मौजूद हैं।

      ऐसे में स्वाभाविक रूप से बच्चों का पठन और पाठन प्रभावित होना लाजमि है और इस परिस्थिति में अच्छी शिक्षा की उम्मीद नहीं की जा सकती है। हालांकि सरकार के द्वारा कई चरणों में शिक्षकों की नियुक्ति की जा रही है, लेकिन वह भी नाकाफी साबित हो रहा है।

      नालंदा जिले के प्राथमिक विद्यालयों में नामांकन जिले के प्राथमिक विद्यालयों में छात्र-छात्राओं का काफी अच्छा नामांकन है। बेहतर पढ़ाई से उनका भविष्य संवर सकता है। सरकारी आकड़ों के अनुसार प्राथमिक विद्यालयों में पहली कक्षा में 41213 विद्यार्थी, दूसरी कक्षा में 55790 विद्यार्थी, तीसरी कक्षा में 58563 विद्यार्थी, चौथी कक्षा में 57461 विद्यार्थी तथा पांचवी कक्षा में 54799 विद्यार्थी नामांकित हैं। इस प्रकार जिले के प्राथमिक विद्यालयों में कुल करीब 267826 बच्चे नामांकित हैं।

      नालंदा जिले के विभिन्न प्रखंडों में प्राथमिक विद्यालयों का वितरण भी बेहतर है। अस्थावां प्रखंड में 68 प्राथमिक विद्यालय, बेन में 57, बिहारशरीफ में 137, बिन्द में 42, चंडी में 71, एकंगरसराय में 103, गिरियक में 45, हरनौत में 77, हिलसा में 105, इस्लामपुर में 116, करायपरशुराय में 49, कतरी सराय में 24, नगरनौसा में 43, नूरसराय में 74, परवलपुर में 44, रहुई में 67, राजगीर में 60, सरमेरा में 52, सिलाव में 73 तथा थरथरी प्रखंड में कुल 41 प्राथमिक विद्यालय मौजूद है।

      वहीं अस्थावां प्रखंड में 246, करायपरशुराय प्रखंड में 148, बेन प्रखंड में 119,  कतरीसराय प्रखंड में 109,  बिहारशरीफ प्रखंड में 512,  नगरनौसा प्रखंड में 176,  बिन्द प्रखंड में 160,  नूरसराय प्रखंड में 286,  चंडी प्रखंड में 299, परवलपुर प्रखंड में 60,  एकंगरसराय प्रखंड में 326,  रहुई प्रखंड में 239,  गिरियक प्रखंड में 12,  राजगीर प्रखंड में 287, हरनौत प्रखंड में 314,  सरमेरा प्रखंड में 174,  हिलसा प्रखंड में 347,  सिलाव प्रखंड में 314,  इस्लामपुर प्रखंड में 385 और  थरथरी प्रखंड में 183 शिक्षक पदास्थापित हैं।

      नालंदा में फिर गायब मिले 36 शिक्षक, होगी वेतन कटौती

      हरनौत सवारी डिब्बा मरम्मत कारखाना में ठेका मजदूरों का भारी शोषण

      नटवरलाल निकला राजगीर नगर परिषद का सस्पेंड टैक्स दारोगा

      बिहारशरीफ में ब्राउन शुगर की गिरफ्त में आए एक और युवक की मौत

      ACS केके पाठक के प्रयास से स्कूली शिक्षा में दिख रहा सुधार

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!