अन्य
    Saturday, May 25, 2024
    अन्य

      चकाचक हो रहा है छोटी औंगारी धाम के नाम से है प्रसिद्ध वुढानगर सूर्य मंदिर

      इस्लामपुर (नालंदा दर्पण)। इस्लामपुर नगर परिषद क्षेत्र अंतर्गत वुढानगर स्थित भगवान सूर्य का बना एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में प्रत्येक रविवार को भगवान भास्कर की पूजा अर्चना करने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है।

      The famous Vudhanagar Sun Temple is famous by the name of Chhoti Aungari Dham 2

      इस कारण यह स्थल सूर्य सरोवर छोटकी औंगारी धाम के नाम से क्षेत्र मे प्रसिद्ध है। यही वजह है कि शादी विवाह के लग्न में दूर दराज से आकर इस मंदिर में शादी समारोह सम्पन्न करवाते है।

      यहाँ छठ पर्व के अवसर पर दूर दराज से लोग पहुंचकर मंदिर में पूजा-अर्चना कर सूर्य सरोवर के पास छठव्रतियों द्वारा भगवान भास्कर का अर्घ प्रदान किया जाता है।

      सीओ अनुज कुमार ने बताया कि छठ व्रतियों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इसके लिए कई ठोस कदम उठाए गए हैं।

      The famous Vudhanagar Sun Temple is famous by the name of Chhoti Aungari Dham 3

      वहीं नगर परिषद के सफाई निरीक्षक संतोष कुमार उर्फ पुटू ने बताया कि वुढानगर और कोविल सूर्य सरोवर घाटों की साफ सफाई कर सरोवर में बैरेकेटिंग करवाया जाएगा और रोशनी के साथ पेयजल का उतम प्रबंध किया जाएगा। यहाँ छठ व्रतियों के लिए चेंजिंग रुम का भी व्यावस्था किया जाएगा।

      इसी प्रकार आत्मा गांव में भगवान भोले नाथ की मंदिर के पास तालाब में आस पास के गांव के काफी संख्या में छठ व्रतियों द्वारा भगवान भास्कर का अर्घ प्रदान किया जाता है।

      ग्रामीण सुनील साव, अवधेश राम, और सर्वेश कुमार आदि ने बताया कि गांव के सहयोग से घाटों के पास साफ सफाई किया गया है। ताकि छठ व्रतियों को कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़े।

      यहां शिवरात्रि के समय भव्य मेला लगता है। ग्रामीणों द्वारा सरकार से कई बार इस स्थल का सौंदर्यीकरण करवाने की मांग किया गया है। लेकिन अब तक कुछ नहीं हो सका है।

      राजगीर सूर्य कुंड के जल से बनता है खरना का प्रसाद, सांध्य अर्ध्य बाद होती है गंगा आरती

      सिर्फ कागज पर रेफरल अस्पताल में परिवर्तित हुआ चंडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र !

      एकंगरसराय प्रखंड में जिला प्रशासन द्वारा किया गया जन संवाद कार्यक्रम

      आग जनित दुर्घटनाओं से बचने के लिए नुक्कड़ नाटक का आयोजन

      चंडी का माधोपुर बना ‘मिनी रेगिस्तान’, रेत के साये में बीत रही जिंदगी

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!