अन्य
    Monday, April 15, 2024
    अन्य

      ऐसे करें नकली और असली दवाइयां में फर्क पहचान

      नालंदा दर्पण डेस्क। इन दिनों देश के विभिन्न राज्यों में भारी मात्रा में करोड़ों-अरबों रुपए की नकली दवाई छापेमारी में पकड़ी जा रही है, जोकि एक गंभीर चिंता का विषय है। आईए देखते हैं कि हम कैसे इन नकली और असली दवाइयां में फर्क पहचान सकते है…

      1. दवाइयां हमेशा लाइसेंस स्टोर/दुकान से ही खरीदें (यह लाइसेंस दुकान में डिस्प्ले होना चाहिए) और बिल जरूर लें।
      2. ऑनलाइन दवाइयां खरीदने से बचना चाहिए। इसमें फ्रॉड की संभावना ज्यादा होती है।
      3. दवाई की कीमत और ऑफर में अक्सर नकली दवाइयां आपको काफी सस्ती और डिस्काउंट पर मिलेंगे।
      4. पैकेजिंग में फर्क। अगर आपको दवाई के प्रिंटिंग में कोई स्पेलिंग मिस्टेक या डिजाइन में फर्क दिखता है तो सावधान हो जाइए वह दवाई नकली हो सकती है।
      5. दवाइयां पर बैच नंबर, मैन्युफैक्चर डेट और एक्सपायरी डेट लिखी होनी चाहिए।
      6. अगर आपको दवाइयों के पैकेट पर बारकोड, यूनिक कोड या क्यूआर कोड नहीं दिखाई देता तो ऐसे में उन दवाइयों को खरीदने से बचें।
      7. अगर आप ध्यान से देखेंगे तो नकली दवाई की ऊपरी परत आमतौर पर सिकुड़ी हुई और खराब मिलेगी।

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=4PaIYo7B5VQ[/embedyt]

      हर्ष फायरिंग मौत मामले में नया मोड़, छात्रा को निशाना लगाकर मारी गई गोली

      राजगीर के सभी चौक-चौराहों से CCTV कैमरा गायब, CM ने किया था उद्घाटन

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=ypE1929VNFI[/embedyt]

      टीआरई-1 और टीआरइ-2 के BPSC टीचरों की प्रतिनियुक्ति पर रोक

      भाकपा माले की जांच टीम ने गुडू हत्याकांड का लिया जायजा, बताया सुनियोजित शाजिस

      [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=7j2Kg675KMQ[/embedyt]

      चंडी नगर पंचायत में हर माह हो रहा 2-3 लाख रुपए का सफाई घोटाला

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!
      बिहारशरीफ नगर का रमणीक स्थान हिरण्य पर्वत नकली और असली दवाइयां में पहचान के तरीके दुनिया का पहला प्रसिद्ध विश्व शांति स्तूप राजगीर बिहार की सैर कीजिए जानें राजगीर ब्रह्म कुंड का अद्भुत रहस्य ई BPSC टीचर बच्चों के बीच क्या मिमिया रहा है KK पाठक साहब?