अन्य
    Monday, June 24, 2024
    अन्य

      विम्स पावापुरी उपद्रव मामले में पत्रकार और पोस्ट मास्टर समेत 40-50 लोगों पर एफआईआर

      बिहारशरीफ (नालंदा दर्पण)। भगवान पावापुरी महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान के अधीक्षक ने अस्पताल के आकस्मिकी में कार्यरत जुनियर-सीनियर चिकित्सको के साथ मारपीट एवं अस्पताल की संपत्ति को नुकसान पहुँचाने को लेकर 3 नामजद एवं 40-50 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करवाई है। जिसमें एक पत्रकार और पोस्टमास्ट भी शामिल है।

      अधीक्षक ने लिखा है कि बीते एक जून को करीब 11:45 बजे एक मृत मरीज के साथ लगभग 35-40 लोग एक साथ अस्पताल के आकस्मिकी विभाग में आए और वहाँ पर कार्यरत चिकित्सकों के साथ हाथापाई, मारपीट, गाली गलौज, कैम्पस से बाहर निकलने पर जान से मारने की धमकी एवं अस्पताल की संपत्ति को नुकसान एवं अस्पताल में भर्ती मरीजों के इलाज में बाधा डाला।

      वहाँ पर मौजूद सुरक्षाकर्मी द्वारा डंडा दिया गया एवं एक-एक चिकित्सकों को काम किया एवं वहाँ पर मौजूद एक-एक चिकित्साकर्मी को पहचान कर पिटवाने का भाग गए एवं बाहर बाग गए। 35-40 लोगों ने चिकित्सकों को बंधक बना कर रखा।

      अधीक्षक, उपाधीक्षक, विभागाध्यस मेडिसिन विभाग, डॉ सुजीत कुमार, सहायक प्राध्यापक मेडिसिन विभाग, डॉ पार्थ सीनियर रेजीडेन्ट सर्जरी विभाग एवं समस्त इटर्न 2018 बैच के सीसीटीवी फुटेज प्राचार्य कार्यालय में उन लोगों की उपस्थिति में निम्नलिखित लोगों की पहचान की गई।

      जिसमें  बल्लु पोस्ट मास्टर पावापुरी, संतोष एवं बसंत पत्रकार समेत अन्य 35-40 अज्ञात लोग का चेहरा सीसीटीवी फुटेज पर साफ-साफ देखा जा रहा है।

      वहीं जिन कार्यरत चिकित्सकों पर हमला हुआ है, उनमें डॉ अंजनी कुमार सहायक प्राध्यापक सर्जरी विभाग, डॉ कुमार विवेकानन्द इंटर्न 2018 बैच एवं अन्य कार्यरत महिला चिकित्सकों के साथ अभद्रता, एवं गाली गलौज एवं निकलने पर जान से मारने की कैम्पस से बाहर धमकी दी गई।

      इस मामले में पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि विम्स पावापुरी हॉस्पीटल के आकस्मिकी में कार्यरत जूनियर-सीनियर चिकित्सक के साथ मारपीट एवं अस्पताल के सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने के संबंध में तीन ज्ञात एवं 35-40 अज्ञात व्यक्तियों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

      प्राथमिकी दर्ज करने के उपरांत तीन ज्ञात एवं अन्य व्यक्तियों की पहचान कर उनके विरूद्ध कार्रवाई की जा रही है। लोकसभा चुनाव-2024 के मद्देनजर हॉस्पीटल में कार्यरत टीओपी के बल को चुनाव डियूटी में लगाया गया था। थाना स्तर से पुलिस बल की तैनाती की गयी थी। चुनाव पश्चात् टीओपी को चालू कर दिया गया है।

      फिलहाल हॉस्पीटल प्रशासन एवं जिला पुलिस प्रशासन के द्वारा जूनियर एवं सीनियर डॉक्टरों से हॉस्पीटल को सुचारू रूप से चालू करने हेतु अपील की गयी है। वहीं चिन्हित सभी अभियुक्तों के विरूद्ध छापेमारी की जा रही है।

       विम्स पावापुरी में चिकित्साकर्मियों के साथ मारपीट, देखें X पर वायरल वीडियो

      रोहिणी नक्षत्र की भीषण गर्मी देख मुस्कुराए किसान, 2 जून तक रहेगी नौतपा

      BPSC शिक्षकों को नहीं मिलेगें अन्य कोई छुट्टी, होगी कार्रवाई

      महिला की मौत के बाद अस्पताल में बवाल, तोड़फोड़, नर्स को छत से नीचे फेंका

      अब इन शिक्षकों पर केके पाठक का डंडा चलना शुरु, जानें बड़ा फर्जीवाड़ा

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

      संबंधित खबरें
      error: Content is protected !!
      राजगीर वेणुवन की झुरमुट में मुस्कुराते भगवान बुद्ध राजगीर बिंबिसार जेल, जहां से रखी गई मगध पाटलिपुत्र की नींव राजगीर गृद्धकूट पर्वत : बौद्ध धर्म के महान ध्यान केंद्रों में एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल राजगीर का पांडु पोखर एक मनोरम ऐतिहासिक धरोहर महाभारत, मगध साम्राज्य तथा बौद्ध काल की अनमोल धरोहर है राजगीर पिपली गुफा